राहत इंदौरी की मशहूर शायरी / शेर – Dr. Rahat Indori Famous Shayari

Dr Rahat Indori Shayari In Hindi

The Shan of our country, i.e. Rahat Indori Saheb ki aaj I bring you a lot of shayari and ghazals for you, you all must know that the shayari of our country Rahat Indori ji was so popular Shayar his one shayari used to be very Jaida viral and people used to like him quite a lot of kiyuki his ghazal or shayari used to

Rahat Indori ( 1 January 1950 – 11 August 2020 (Rahat Indori was corona positive ) was an Indian Urdu poet and lyricist of Hindi films.

Rahat Indori started teaching Urdu literature in his early days at IK College, Indore. Later he noticed the Musketeers. He quickly gained fame here due to his talent. In a short time th became famous Shayar of Urdu literature.

Dr. Rahat Indori Famous Shayari
Dr. Rahat Indori Famous Shayari

घर से ये सोच के निकला हूँ कि मर जाना है

अब कोई राह दिखा दे कि किधर जाना है

 

जिस्म से साथ निभाने की मत उम्मीद रखो

इस मुसाफ़िर को तो रस्ते में ठहर जाना है

 

मौत लम्हे की सदा ज़िंदगी उम्रों की पुकार

मैं यही सोच के ज़िंदा हूँ कि मर जाना है

Dr. Rahat Indori Famous Shayari
Dr. Rahat Indori Famous Shayari

नश्शा ऐसा था कि मय-ख़ाने को दुनिया समझा

होश आया तो ख़याल आया कि घर जाना है

 

मिरे जज़्बे की बड़ी क़द्र है लोगों में मगर

मेरे जज़्बे को मिरे साथ ही मर जाना है

 

ghar se ye soch ke nikla hun ki mar jaana hai

ab koi rah dikha de ki kidhar jaana hai

 

jism se sath nibhane ki mat ummid rakho

is musafir ko to raste mein Thahar jaana hai

 

maut lamhe ki sada zindagi umron ki pukar

main yahi soch ke zinda hun ki mar jaana hai

 

nashsha aisa tha ki mai-KHane ko duniya samjha

hosh aaya to KHayal aaya ki ghar jaana hai

 

mere jazbe ki baDi qadr hai logon mein magar

mere jazbe ko mere sath hi mar jaana hai

Dr. Rahat Indori Famous Shayari
Dr. Rahat Indori Famous Shayari

मैं लाख कह दूँ कि आकाश हूँ ज़मीं हूँ मैं

मगर उसे तो ख़बर है कि कुछ नहीं हूँ मैं

 

अजीब लोग हैं मेरी तलाश में मुझ को

वहाँ पे ढूँड रहे हैं जहाँ नहीं हूँ मैं

 

मैं आइनों से तो मायूस लौट आया था

मगर किसी ने बताया बहुत हसीं हूँ मैं

 

वो ज़र्रे ज़र्रे में मौजूद है मगर मैं भी

कहीं कहीं हूँ कहाँ हूँ कहीं नहीं हूँ मैं

 

वो इक किताब जो मंसूब तेरे नाम से है

उसी किताब के अंदर कहीं कहीं हूँ मैं

Dr. Rahat Indori Famous Shayari
Dr. Rahat Indori Famous Shayari

सितारो आओ मिरी राह में बिखर जाओ

ये मेरा हुक्म है हालाँकि कुछ नहीं हूँ मैं

 

यहीं हुसैन भी गुज़रे यहीं यज़ीद भी था

हज़ार रंग में डूबी हुई ज़मीं हूँ मैं

 

ये बूढ़ी क़ब्रें तुम्हें कुछ नहीं बताएँगी

मुझे तलाश करो दोस्तो यहीं हूँ मैं

 

main lakh kah dun ki aakash hun zamin hun main

magar use to KHabar hai ki kuchh nahin hun main

 

ajib log hain meri talash mein mujh ko

wahan pe DhunD rahe hain jahan nahin hun main

Dr. Rahat Indori Famous Shayari
Dr. Rahat Indori Famous Shayari

main aainon se to mayus lauT aaya tha

magar kisi ne bataya bahut hasin hun main

 

wo zarre zarre mein maujud hai magar main bhi

kahin kahin hun kahan hun kahin nahin hun main

 

wo ek kitab jo mansub tere nam se hai

usi kitab ke andar kahin kahin hun main

 

sitaro aao meri rah mein bikhar jao

ye mera hukm hai haalanki kuchh nahin hun main

 

yahin husain bhi guzre yahin yazid bhi tha

hazar rang mein Dubi hui zamin hun main

 

ye buDhi qabren tumhein kuchh nahin bataengi

mujhe talash karo dosto yahin hun main

Dr. Rahat Indori Famous Shayari
Dr. Rahat Indori Famous Shayari

लोग हर मोड़ पे रुक रुक के सँभलते क्यूँ हैं

इतना डरते हैं तो फिर घर से निकलते क्यूँ हैं

 

मय-कदा ज़र्फ़ के मेआ’र का पैमाना है

ख़ाली शीशों की तरह लोग उछलते क्यूँ हैं

 

मोड़ होता है जवानी का सँभलने के लिए

और सब लोग यहीं आ के फिसलते क्यूँ हैं

 

नींद से मेरा तअल्लुक़ ही नहीं बरसों से

ख़्वाब आ आ के मिरी छत पे टहलते क्यूँ हैं

 

मैं न जुगनू हूँ दिया हूँ न कोई तारा हूँ

रौशनी वाले मिरे नाम से जलते क्यूँ हैं

 

log har moD pe ruk ruk ke sambhalte kyun hain

itna Darte hain to phir ghar se nikalte kyun hain

Dr. Rahat Indori Famous Shayari
Dr. Rahat Indori Famous Shayari

mai-kada zarf ke mear ka paimana hai

KHali shishon ki tarah log uchhalte kyun hain

 

moD hota hai jawani ka sambhalne ke liye

aur sab log yahin aa ke phisalte kyun hain

 

nind se mera talluq hi nahin barson se

KHwab aa aa ke meri chhat pe Tahalte kyun hain

 

main na jugnu hun diya hun na koi tara hun

raushni wale mere nam se jalte kyun hain

 

अंदर का ज़हर चूम लिया धुल के आ गए

कितने शरीफ़ लोग थे सब खुल के आ गए

 

सूरज से जंग जीतने निकले थे बेवक़ूफ़

सारे सिपाही मोम के थे घुल के आ गए

Dr. Rahat Indori Famous Shayari
Dr. Rahat Indori Famous Shayari

मस्जिद में दूर दूर कोई दूसरा न था

हम आज अपने आप से मिल-जुल के आ गए

 

नींदों से जंग होती रहेगी तमाम उम्र

आँखों में बंद ख़्वाब अगर खुल के आ गए

 

सूरज ने अपनी शक्ल भी देखी थी पहली बार

आईने को मज़े भी तक़ाबुल के आ गए

 

अनजाने साए फिरने लगे हैं इधर उधर

मौसम हमारे शहर में काबुल के आ गए

 

andar ka zahr chum liya dhul ke aa gae

kitne sharif log the sab khul ke aa gae

 

suraj se jang jitne nikle the bewaquf

sare sipahi mom ke the ghul ke aa gae

 

masjid mein dur dur koi dusra na tha

hum aaj apne aap se mil-jul ke aa gae

Dr. Rahat Indori Famous Shayari
Dr. Rahat Indori Famous Shayari

nindon se jang hoti rahegi tamam umr

aankhon mein band KHwab agar khul ke aa gae

 

suraj ne apni shakl bhi dekhi thi pahli bar

aaine ko maze bhi taqabul ke aa gae

 

anjaane sae phirne lage hain idhar udhar

mausam hamare shahr mein kabul ke aa gae

 

दिलों में आग लबों पर गुलाब रखते हैं

सब अपने चेहरों पे दोहरी नक़ाब रखते हैं

 

हमें चराग़ समझ कर बुझा न पाओगे

हम अपने घर में कई आफ़्ताब रखते हैं

Dr. Rahat Indori Famous Shayari
Dr. Rahat Indori Famous Shayari

बहुत से लोग कि जो हर्फ़-आशना भी नहीं

इसी में ख़ुश हैं कि तेरी किताब रखते हैं

 

ये मय-कदा है वो मस्जिद है वो है बुत-ख़ाना

कहीं भी जाओ फ़रिश्ते हिसाब रखते हैं

 

हमारे शहर के मंज़र न देख पाएँगे

यहाँ के लोग तो आँखों में ख़्वाब रखते हैं

 

dilon mein aag labon par gulab rakhte hain

sab apne chehron pe dohri naqab rakhte hain

 

hamein charagh samajh kar bujha na paoge

hum apne ghar mein kai aaftab rakhte hain

 

bahut se log ki jo harf-ashna bhi nahin

isi mein KHush hain ki teri kitab rakhte hain

 

ye mai-kada hai wo masjid hai wo hai but-KHana

kahin bhi jao farishte hisab rakhte hain

Dr. Rahat Indori Famous Shayari
Dr. Rahat Indori Famous Shayari

hamare shahr ke manzar na dekh paenge

yahan ke log to aankhon mein KHwab rakhte hain

 

दोस्ती जब किसी से की जाए

दुश्मनों की भी राय ली जाए

 

मौत का ज़हर है फ़ज़ाओं में

अब कहाँ जा के साँस ली जाए

 

बस इसी सोच में हूँ डूबा हुआ

ये नदी कैसे पार की जाए

 

अगले वक़्तों के ज़ख़्म भरने लगे

आज फिर कोई भूल की जाए

 

लफ़्ज़ धरती पे सर पटकते हैं

गुम्बदों में सदा न दी जाए

 

कह दो इस अहद के बुज़ुर्गों से

ज़िंदगी की दुआ न दी जाए

 

बोतलें खोल के तो पी बरसों

आज दिल खोल कर ही पी जाए

Dr. Rahat Indori Famous Shayari
Dr. Rahat Indori Famous Shayari

dosti jab kisi se ki jae

dushmanon ki bhi rae li jae

 

maut ka zahr hai fazaon mein

ab kahan ja ke sans li jae

 

bas isi soch mein hun Duba hua

ye nadi kaise par ki jae

 

agle waqton ke zaKHm bharne lage

aaj phir koi bhul ki jae

 

lafz dharti pe sar paTakte hain

gumbadon mein sada na di jae

 

kah do is ahd ke buzurgon se

zindagi ki dua na di jae

 

botalen khol ke to pi barson

aaj dil khol kar hi pi jae

Dr. Rahat Indori Famous Shayari
Dr. Rahat Indori Famous Shayari

काम सब ग़ैर-ज़रूरी हैं जो सब करते हैं

और हम कुछ नहीं करते हैं ग़ज़ब करते हैं

 

आप की नज़रों में सूरज की है जितनी अज़्मत

हम चराग़ों का भी उतना ही अदब करते हैं

 

हम पे हाकिम का कोई हुक्म नहीं चलता है

हम क़लंदर हैं शहंशाह लक़ब करते हैं

 

देखिए जिस को उसे धुन है मसीहाई की

आज कल शहर के बीमार मतब करते हैं

 

ख़ुद को पत्थर सा बना रक्खा है कुछ लोगों ने

बोल सकते हैं मगर बात ही कब करते हैं

 

एक इक पल को किताबों की तरह पढ़ने लगे

उम्र भर जो न किया हम ने वो अब करते हैं

 

kaam sab ghair-zaruri hain jo sab karte hain

aur hum kuchh nahin karte hain ghazab karte hain

Dr. Rahat Indori Famous Shayari
Dr. Rahat Indori Famous Shayari

aap ki nazron mein suraj ki hai jitni azmat

hum charaghon ka bhi utna hi adab karte hain

 

hum pe hakim ka koi hukm nahin chalta hai

hum qalandar hain shahanshah laqab karte hain

 

dekhiye jis ko use dhun hai masihai ki

aaj kal shahr ke bimar matab karte hain

 

KHud ko patthar sa bana rakkha hai kuchh logon ne

bol sakte hain magar baat hi kab karte hain

 

ek ek pal ko kitabon ki tarah paDhne lage

umr bhar jo na kiya hum ne wo ab karte hain

 

कभी दिमाग़ कभी दिल कभी नज़र में रहो,

ये सब तुम्हारे ही घर हैं किसी भी घर में रहो !

 

जला न लो कहीं हमदर्दियों में अपना वजूद,

गली में आग लगी हो तो अपने घर में रहो !

Dr. Rahat Indori Famous Shayari
Dr. Rahat Indori Famous Shayari

तुम्हें पता ये चले घर की राहतें क्या हैं,

हमारी तरह अगर चार दिन सफ़र में रहो !

 

है अब ये हाल कि दर दर भटकते फिरते हैं,

ग़मों से मैं ने कहा था कि मेरे घर में रहो !

 

किसी को ज़ख़्म दिए हैं किसी को फूल दिए,

बुरी हो चाहे भली हो मगर ख़बर में रहो !!

 

kabhi dimagh kabhi dil kabhi nazar mein raho

ye sab tumhaare hi ghar hain kisi bhi ghar mein raho

 

jala na lo kahin hamdardiyon mein apna wajud

gali mein aag lagi ho to apne ghar mein raho

 

tumhein pata ye chale ghar ki rahaten kya hain

hamari tarah agar chaar din safar mein raho

 

hai ab ye haal ki dar dar bhaTakte phirte hain

ghamon se main ne kaha tha ki mere ghar mein raho

 

kisi ko zaKHm diye hain kisi ko phul diye

buri ho chahe bhali ho magar KHabar mein raho

 

अब अपनी रूह के छालों का कुछ हिसाब करूँ

मैं चाहता था चराग़ों को आफ़्ताब करूँ

 

मुझे बुतों से इजाज़त अगर कभी मिल जाए

तो शहर-भर के ख़ुदाओं को बे-नक़ाब करूँ

 

उस आदमी को बस इक धुन सवार रहती है

बहुत हसीन है दुनिया इसे ख़राब करूँ

 

है मेरे चारों तरफ़ भीड़ गूँगे बहरों की

किसे ख़तीब बनाऊँ किसे ख़िताब करूँ

 

मैं करवटों के नए ज़ाइक़े लिखूँ शब-भर

ये इश्क़ है तो कहाँ ज़िंदगी अज़ाब करूँ

 

ये ज़िंदगी जो मुझे क़र्ज़-दार करती रही

कहीं अकेले में मिल जाए तो हिसाब करूँ

 

ab apnī ruuh ke chhāloñ kā kuchh hisāb karūñ

maiñ chāhtā thā charāġhoñ ko āftāb karūñ

 

mujhe butoñ se ijāzat agar kabhī mil jaa.e

to shahar-bhar ke ḳhudāoñ ko be-naqāb karūñ

 

us aadmī ko bas ik dhun savār rahtī hai

bahut hasīn hai duniyā ise ḳharāb karūñ

 

hai mere chāroñ taraf bhiiḌ gūñge bahroñ kī

kise ḳhatīb banā.ūñ kise ḳhitāb karūñ

 

maiñ karvaToñ ke na.e zā.iqe likhūñ shab-bhar

ye ishq hai to kahāñ zindagī azaab karūñ

 

ye zindagī jo mujhe qarz-dār kartī rahī

kahīñ akele meñ mil jaa.e to hisāb karūñ

 

वो एक एक बात पे रोने लगा था,

समुंदर आबरू खोने लगा था !

 

लगे रहते थे सब दरवाज़े फिर भी,

मैं आँखें खोल कर सोने लगा था !

 

चुराता हूँ अब आँखें आइनों से,

ख़ुदा का सामना होने लगा था !

 

वो अब आईने धोता फिर रहा है,

उसे चेहरे पे शक होने लगा था !

 

मुझे अब देख कर हँसती है दुनिया,

मैं सब के सामने रोने लगा था !!

 

wo ek ek baat pe rone laga tha

samundar aabru khone laga tha

 

lage rahte the sab darwaze phir bhi

main aankhen khol kar sone laga tha

 

churaata hun ab aankhen aainon se

KHuda ka samna hone laga tha

 

wo ab aaine dhota phir raha hai

use chehre pe shak hone laga tha

 

mujhe ab dekh kar hansti hai duniya

main sab ke samne rone laga tha

 

बुलाती है मगर जाने का नईं

ये दुनिया है इधर जाने का नईं

 

मेरे बेटे किसी से इश्क़ कर

मगर हद से गुजर जाने का नईं

 

सितारें नोच कर ले जाऊँगा

मैं खाली हाथ घर जाने का नईं

 

वबा फैली हुई है हर तरफ

अभी माहौल मर जाने का नईं

 

वो गर्दन नापता है नाप ले

मगर जालिम से डर जाने का नईं

 

bulati hai magar jaane ka nain

wo duniya hai udhar jaane ka nain

 

zamin rakhna paDe sar par to rakkho

chalo ho to Thahar jaane ka nain

 

hai duniya chhoDna manzur lekin

watan ko chhoD kar jaane ka nain

 

janaze hi janaze hain saDak par

abhi mahaul mar jaane ka nain

 

sitare noch kar le jaunga

main KHali hath ghar jaane ka nain

 

mere beTe kisi se ishq kar

magar had se guzar jaane ka nain

 

wo gardan napta hai nap le

magar zalim se Dar jaane ka nain

 

रात की धड़कन जब तक जारी रहती है

सोते नहीं हम ज़िम्मेदारी रहती है

 

जब से तू ने हल्की हल्की बातें कीं

यार तबीअत भारी भारी रहती है

 

पाँव कमर तक धँस जाते हैं धरती में

हाथ पसारे जब ख़ुद्दारी रहती है

 

वो मंज़िल पर अक्सर देर से पहुँचे हैं

जिन लोगों के पास सवारी रहती है

 

छत से उस की धूप के नेज़े आते हैं

जब आँगन में छाँव हमारी रहती है

 

घर के बाहर ढूँढता रहता हूँ दुनिया

घर के अंदर दुनिया-दारी रहती है

 

raat ki dhaDkan jab tak jari rahti hai

sote nahin hum zimmedari rahti hai

 

jab se tu ne halki halki baaten kin

yar tabiat bhaari bhaari rahti hai

 

panw kamar tak dhans jate hain dharti mein

hath pasare jab KHuddari rahti hai

 

wo manzil par aksar der se pahunche hain

jin logon ke pas sawari rahti hai

 

chhat se us ki dhup ke neze aate hain

jab aangan mein chhanw hamari rahti hai

 

ghar ke bahar DhunDhta rahta hun duniya

ghar ke andar duniya-dari rahti hai

 

सिसकती रुत को महकता गुलाब कर दूँगा

मैं इस बहार में सब का हिसाब कर दूँगा

 

मैं इंतिज़ार में हूँ तू कोई सवाल तो कर

यक़ीन रख मैं तुझे ला-जवाब कर दूँगा

 

हज़ार पर्दों में ख़ुद को छुपा के बैठ मगर

तुझे कभी न कभी बे-नक़ाब कर दूँगा

 

मुझे भरोसा है अपने लहू के क़तरों पर

मैं नेज़े नेज़े को शाख़-ए-गुलाब कर दूँगा

 

मुझे यक़ीन कि महफ़िल की रौशनी हूँ मैं

उसे ये ख़ौफ़ कि महफ़िल ख़राब कर दूँगा

 

मुझे गिलास के अंदर ही क़ैद रख वर्ना

मैं सारे शहर का पानी शराब कर दूँगा

 

महाजनों से कहो थोड़ा इंतिज़ार करें

शराब-ख़ाने से आ कर हिसाब कर दूँगा

 

sisaktī rut ko mahaktā gulāb kar dūñgā

maiñ is bahār meñ sab kā hisāb kar dūñgā

 

maiñ intizār meñ huuñ tū koī savāl to kar

yaqīn rakh maiñ tujhe lā-javāb kar dūñgā

 

hazār pardoñ meñ ḳhud ko chhupā ke baiTh magar

tujhe kabhī na kabhī be-naqāb kar dūñgā

 

mujhe bharosa hai apne lahū ke qatroñ par

maiñ neze neze ko shāḳh-e-gulāb kar dūñgā

 

mujhe yaqīn ki mahfil kī raushnī huuñ maiñ

use ye ḳhauf ki mahfil ḳharāb kar dūñgā

 

mujhe gilās ke andar hī qaid rakh varna

maiñ saare shahr kā paanī sharāb kar dūñgā

 

mahājanoñ se kaho thoḌā intizār kareñ

sharāb-ḳhāne se aa kar hisāb kar dūñgā

 

 

Leave a Comment